लाइफस्टाइल स्वास्थ्य

आपको भी बनाने है सिक्स पैक ऐब्स तो ये खबर जरूर पढ़ें

आज के यूथ अपनी बॉडी को लेकर बहुत ही सीरियस रहते हैं, यही कारण है कि जिम में लोग अपना ज्यादा समय दे रहे हैं. बॉडी शेप को लेकर एक धारणा बन चुकी है कि लड़कों के कंधे चौड़े व सिक्स पैक ऐब्स होने चाहिए और लड़कियों की कमर पतली होनी चाहिए. लेकिन एक नई स्टडी में चेतावनी दी गई है कि वैसे पुरुष जो परफेक्ट 6 पैक ऐब्स पाने की कोशिश में दिन-रात लगे रहते हैं उनमें डिप्रेशन का खतरा दूसरों की तुलना में कई गुना अधिक होता है.

नौरवेजियन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस ऐंड टेक्नॉलजी और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने जांच की और पाया कि पुरुषों की अपनी खुद की बॉडी को लेकर जो इमेज डिसऑर्डर है उसमें और उनके मानसिक स्वास्थ्य के बीच गहरा संबंध है.

बॉडी ऑब्सेस्ड पुरुषों में डिप्रेशन का खतरा
अनुंसधानकर्ताओं ने पाया कि वो पुरुष जो अपनी बॉडी को लेकर कुछ ज्यादा ही ऑब्सेस्ड रहते हैं, उनमें न सिर्फ डिप्रेशन का खतरा अधिक रहता है. ऐसे लोग अपनी तुलना दूसरों से करते हैं और उनसे आगे निकलने की होड़ में लगे रहते हैं.

10 प्रतिशत पुरुष ऐसे हैं जिन्हें अपनी बॉडी पसंद नहीं
स्टडी में यह भी सामने आया है कि करीब 10 प्रतिशत पुरुष हैं जिन्हें अपनी खुद की बॉडी पसंद नहीं और वे उसमें कमियां निकालते रहते हैं. कुछ लोगों को लगता है कि वे ज्यादा मोटे हैं तो कुछ को लगता है कि वे बहुत ज्यादा पतले. अनुसंधानकर्ताओं ने इस स्टडी के लिए 18 से 32 साल के बीच के 2 हजार 460 पुरुषों का इंटरव्यू लिया था.

सेलेब्रिटी जैसी बॉडी पाना चाहते हैं ज्यादातर लोग
स्टडी में पाया गया है कि लोग सेलेब्रिटी जैसी बॉडी चाहते हैं. फिल्मों में हीरो की बॉडी देख के लोग काफी प्रभावित हो जाते हैं, लेकिन वे ये भूल जाते हैं कि उनका प्रोफेशन ही यही है. यह एक बड़ी समस्या है कि हीरोज की परफेक्ट ऐब्स वाली बॉडी को जॉब करने वाले, पढ़ाई करने वाले और फैमिली वाले पुरुषआइडल मान लेते हैं और वैसी ही बॉडी बनाने की सोचने लगते हैं. साथ ही, स्टडी के दौरान ज्यादातर पुरुषों का कहना था- अगर मैं वर्कआउट मिस कर देता हूं तो मुझे अपराधबोध महसूस होने लगता है, मुझे नहीं लगता कि मेरा सीना उतना मस्क्यूलर है जितना होना चाहिए, मैं ऐनाबॉलिक स्टेरॉयड लेने की सोच रहा हूं.