अपराध उत्तर प्रदेश गोंडा स्वास्थ्य

थमा दी छह माह पूर्व एक्सपाएर हो चुकी टी बी की दवाई, मरीज बचा मौत के मुँह में जाने से

प्रतिरक्षण अधिकारी का सी एम् ओ ने किया ट्रांसफर, दिए जांच के आदेश

       गोंडा ! स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी की एक ऐसी बड़ी लापरवाही सामने आई है जो जानलेवा भी साबित हो सकती थी …. संविदा पर तैनात स्वास्थ्यकर्मी ने टीवी के मरीज को 6 महीने पहले एक्सपायर हो चुकी इंजेक्शन थमा दी और मरीज ने इस एक्सपायर इंजेक्शन को लगातार दो दिल लगाया …. जिसके बाद उसकी हालत बिगड़ गई और उसको खून की उल्टियां होने लगी …. हालत नाजुक होते देख मरीज ने मुख्यालय जाकर अपना इलाज कराया तब जाकर उसकी स्थिति सामान्य हो सकी। इस बेहद संवेदनशील मामले पर जिले के सीएमओ ने तुरंत तीन सदस्य टीम गठित कर जांच के आदेश दे दिए और लापरवाह स्वास्थ्य कर्मी का ट्रांसफर भी दूसरी जगह कर दिया।
        जानलेवा लापरवाही का यह पूरा मामला यूपी के गोंडा से सामने आया है जहां छपिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रतिरक्षण अधिकारी के पद पर तैनात संविदाकर्मी अरविंद कुमार ने ट्यूबर क्लोसिस (टीवी) से पीड़ित मरीज राम कृपाल को मई में ही एक्सपायर हो चुकी इंजेक्शन की कई शीशियां थमा दी। पीड़ित राम कृपाल ने एक नहीं बल्कि दो एक्सपायर इंजेक्शन दो दिन में लगवाई …. जिसके बाद इसकी हालत बिगड़ गई और इसे खून की उल्टियां होने लगी। जिस पर आनन – फानन में मुख्यालय आकर पीड़ित ने अपना इलाज कराया …. पीड़ित ने बताया कि 4 साल से वह टीवी का मरीज है और मसकनवा व छपिया से लेकर जिले तक लगातार अपना इलाज करा रहा है। उसने छपिया सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से यह इंजेक्शन लिया जो एक्सपायर था …. वहीं दूसरी तरफ इस बेहद संवेदनशील मामले पर स्थानीय व्यक्ति आलोक पांडे ने बताया कि   इस गांव के टीवी के कई मरीज़ है और दो मरीजों की मौत भी हो चुकी है …. जिसकी सूचना हमने कई बार जिला स्तरीय अधिकारियों को भी दी लेकिन कोई कार्यवाही अभी तक नहीं हुई है।
        वहीं इस पूरे मामले पर जिले के सीएमओ संतोष कुमार ने इस संवेदनहीन और जानलेवा लापरवाही को त्रुटिवश बता डाला …. हालांकि तीन सदस्यीय टीम गठित कर जांच के आदेश दे दिए और आरोपी कर्मचारी का दूसरी सीएससी पर ट्रांसफर भी कर दिया। फिलहाल एक तरफ जहां जिम्मेदार अधिकारी इस जानलेवा लापरवाही को त्रुटि बता रहे हैं तो ऐसे में आरोपी के खिलाफ कार्यवाही कब होगी और जांच रिपोर्ट कितनी सत्य होगी और कब तक आएगी यह तो भविष्य ही तय करेगा।