अपराध उत्तर प्रदेश गोंडा राजनीति

भाजपा नेता पर लगा 50000 की लूट का आरोप, पीडित को कुल्हाडी से मार किया अधमरा

Written by ashfaq shah

पुलिस लगी मामले की लीपापोती में

गोण्डा। जिले में एक सनसनी खेज मामला सामने आया है जिसमें भाजपा के एक नेता द्वारा भटटे पर काम करने वाले कर्मचारी के साथ हजारों की लूट के साथ उस पर प्राणघातक हमला करने की बात सामने आ रही है, इस हमले में भटठे का कर्मचारी जिला चिक्तिसालय में भर्ती जिन्दगी और मोत की जंग लड रहा है।

मामला थाना उमरी बेगमगंज के ग्राम खजूरी का है, जहां संचालित लल्लू चौबे के भटठे पर थाना तरबबंज के ग्राम बरसडी निवासी राघव सरन चौबे मुंशी का काम करता है, जिला अस्पताल में जिन्दगी और मौत की जंग लड रहे राघवसरन ने बताया कि बुधवार की सुबह लगभग नौ बजे राघवसरन भटठे पर ही कोयले के भुगतान के लिए मिले रकम की गिनाई कर रहा था, उसी समय भाजपा के मण्डल उपाध्यक्ष और दुर्जनपुर न्याय पंचायत सेक्टर प्रभारी राजेश तिवारी भटठे पर पहुचां और राघवसरन पर कुल्हाडी से प्रहार कर दिया, अचानक हुए इस हमले से राघवसरन बुरी तरह घायल हो जमीन पर गिर पडा। राघव को घायल कर राजेश ने उसके पास रखे पचास हजार रूपये को लूटा और बडे ही आराम के साथ पैदल ही वहां से चला गया।

प्रकरण पर जब थाना प्रभारी उमरीबेगम गंज एस के सिंह से जानकारी चाही गयी तो उन्होनें प्रकरण के सत्ताधारी दल से जुडे होने के चलते लूट की घटना को सिरे से नकारते हुए मात्र मारपीट की घटना बतायी, हालाकिं उन्होनें इस बात को स्वीकारते हुए यह भी कहा कि अभी दर्ज की हुयी एफआईआर में लूट की धारा तो लिखी गयी है परन्तु एक घंटे बाद यह धारा हटा दी जायेगीं।

हैरानी तो इस बात की होती है कि बुधवार सुबह नौ बजे घटी घटना में आनन फानन में मुकदमा भी दर्ज हो जाता है, शाम सात बजे तक विवेचना भी हो जाती है, हद तो तब हो जाती है जब विवेचक यह निर्णय भी ले लेता है कि कौन सी धारा रखनी है, और कौन सी हटा देनी है ! एसओ उमरीबेगम गंज की यह तेजी यही इशारा कर रही है कि वह मामले में बडी ही सिद्वत से लीपापोती करने का प्रयास करते हुए लूट की इस घटना को मात्र मारपीट में बदल अपनी सेवा भक्ति जाहिर करने में कोई चूक नहीं छोडना चाहती।

हालाकिं मामले पर जब भाजपा नेता राजेश तिवारी से बात की गयी तो उन्होनें भी लूट की घटना से इन्कार करते हुए बताया कि भटठे की जमीन का हमने बैनामा करा लिया है जिस पर लल्लू चौबे का कब्जा है इसी कब्जे को हटाने की बात पर विवाद हुआ है जिसमें राघव सरन ने उस पर हमला कर दिया इस हमलें में वह स्वयं घायल हो गये है।

About the author

ashfaq shah

%d bloggers like this: