अपराध उत्तर प्रदेश गोंडा

पुलिस ने दिखाई अपनी कार्यशैली, रेलवे लाइन पर मिले शव की नहीं दर्ज की प्राथमिकी

ग्रामीणों ने घंटो रखा सड़क जाम, नामजद तहरीर पर रखी कार्यवाही की मांग

       
      गोण्डा ! पुलिस की कार्यशैली से परेशान एक परिवार ने शव रख कर सड़क जाम कर दिया …. ये परिवार एफआईआर न दर्ज होने से नाराज था। मामला रेलवे ट्रैक पर मिले एक शव का है …. कल रेलवे ट्रैक पर एक युवक का शव मिला था जिसका जीआरपी ने अज्ञात में पंचनामा किया था। जांच पड़ताल के बाद ट्रैक पर मिले शव की पहचान राजेश मिश्रा नामक युवक रूप में हुई थी जिसके बाद परिजनों ने हत्या का शक जाहिर करते हुए थाने में नामजद तहरीर दी। परिजनों की ओर से तहरीर मिलने के बाद भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं किया और इससे नाराज परिजनों व ग्रामीणों ने शव के सामने बैठ घँटों सड़क जामकर दिया। जंहा परिजनों ने पुलिस व जीआरपी पर एफआईआर न दर्ज करने का आरोप लगाया है वंही सूचना पाकर जिले की तीन थानों की पुलिस व एसडीएम मौके पर पहुँचे और परिजनों व ग्रामीणों को समझा बुझाकर जाम खुलवाया जबकि सड़क पर जाम लगने से आवागमन घंटों बाधित रहा।
        सड़क पर ही अपने बेटे के शव के पास बैठी मृतक की माँ ने पुलिस व जीआरपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि मेरा बेटा गाड़ी चलाता था और किसी ने उसकी हत्या करके रेलवे लाइन पर फेंक दिया …. जिस पर हमने पुलिस से एफआईआर दर्ज करने को कहा तो उन्होंने दर्ज नही किया मैं …. चाहती हूँ कि एफआईआर दर्ज हो और हत्यारे जेल जाएं। वही ग्रामीणों का हंगामा बढ़ता देख दल – बल के साथ मौके पर पहुँचे एसडीएम मनकापुर जगदम्बा सिंह ने बताया कि कल रेल लाइन पर एक युवक की कटी हुई लाश मिली थी जिसका पंचनामा जीआरपी ने अज्ञात में कर दिया था …. हालांकि परिजनों की पहचान पर मृतक की राजेश मिश्रा के रूप में पहचान हुई थी जिसके बाद आज परिजनों ने यह आरोप लगाया है कि उनकी एफआईआर नही दर्ज की गई है। एसडीएम ने एफआईआर न दर्ज होने की बात को स्वीकारते हुए कहा कि एफआईआर दर्ज करने में देरी हुई थी जिस कारण परिजनों ने शव सड़क पर रख सड़क जाम किया था …. मौके पर पहुंचकर परिजनों को समझाया गया है और स्थिति सामान्य की गई है परिजनों से तहरीर लेकर मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। फिलहाल इस पूरे घटनाक्रम के सामने आने के बाद पुलिसिया कार्यशैली पर सवालिया निशान लगता नज़र आ रहा है।