उत्तर प्रदेश राजनीति

दलित व पिछड़ा विरोधी है मोदी सरकार :- आत्माराम पटेल

आर्थिक आधार पर सवर्ण आरक्षण के विरोध में सरदार सेना ने प्रदेश भर में फूंका पीएम मोदी का पुतला।

अम्बेडकरनगर ! आज जनपद के अम्बेडकर नगर तहसील तिराहा पर सरदार सेना के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर पीएम मोदी का पुतला फूंका।

बताते चले कि मोदी सरकार ने बीते 08 जनवरी को अर्थिक आधार पर सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला किया। इसको लेकर पूरे देश में ओबीसी एवं दलित समुदाय के बीच रोष व्याप्त है। इसी क्रम में सरदार सेना के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने जनपद के अम्बेडकर नगर में तहसील तिराहा को जाम करते हुए मोदी सरकार मुर्दाबाद व सवर्ण आरक्षण मुर्दाबाद का नारा लगाते हुए पीएम मोदी का प्रतिकात्मक पुतला फूंका।

इस दौरान प्रदेश महासचिव आत्माराम पटेल ने बताया कि मोदी सरकार संविधान विरोधी है ,दलित और पिछड़ा विरोधी है और आरोप लगाया कि संविधान के मूल भावनाओं से यह सरकार खिलवाड़ कर रही है। आगे आत्माराम पटेल ने बताया कि संविधान में शैक्षणिक व सामाजिक पिछड़े व दलित वंचित समाज को देश के सर्वांगिण विकास हेतु मुख्य धारा में लाने के लिए आरक्षण की व्यवस्था दी गयी है लेकिन वर्तमान भाजपा सरकार आरक्षण को गरीबी उन्मुलन स्कीम जैसा बना रखी है। मोदी का यह निर्णय पूरी तरह अनैतिक और असंवैधानिक है जिसके खिलाफ पूरे उत्तर प्रदेश में सरदार सेना के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के निर्देशानुसार आज मोदी सरकार का पुतला दहन किया गया है। आगे सरदार सेना के कार्यकर्ताओं ने कहा कि यदि मोदी सरकार की मंशा सवर्णों को आरक्षण देना है तो उनकी आबादी देश में लगभग 14 प्रतिशत है तो उनकी आबादी के अनुसार उन्हें 14 प्रतिशत सम्पूर्ण हिस्सेदारी दे देनी चाहिए न कि आर्थिक आधार पर। आर्थिक आधार पर निर्णय देश व संविधान के साथ बेमानी है। इस निर्णय का सरदार सेना पूरजोर विरोध करेगा तथा जरूरत पड़ी तो सड़कों पर आंदोलन खड़ा कर सरकार की र्इंट से र्इंट बजाने का काम करेगा।

इस दौरान अशोक बर्मा जिला अध्यक्ष संदेश बर्मा चंदन सिंह पटेल विवेक वर्मा संजय विश्वकर्मा लालजी अनिल गुप्ता पंकज सोनी अशोक बीरेंद्र आशुतोष भारतीय नागरिक राहुल गौतम अतुल वर्मा आलोक राम लखन विश्वकर्मा विष्णु कुमार कुंदन पटेल सुरेश कुमार बौद्ध सरदार सेना सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।