अपराध उत्तर प्रदेश गोंडा

आखिर क्यों रेप पीड़िता को घंटो थाने में बैठाये रही इटियाथोक पोलिस

दबंग आरोपियों से सांठ गाँठ का लग रहा आरोप 

 गोण्डा ! जनपद  में अपराधी बेखौफ़ हो चुके है, अपराधियों के मन में पुलिस व कानून का कोई डर नहीं रह गया। पिछले तीन महीने में जिले में बढ़ते हत्या, रेप और लूट की घटनाओं ने पुलिस की नींद उड़ा दी है। ऐसे ही आपराधिक वारदात आज गोण्डा के एक गांव में हुई …. जहां एक 12 वर्ष की नाबालिग दलित लड़की के साथ रेप की घटना को गांव के ही एक व्यक्ति ने अंजाम दिया है। दुष्कर्म की घटना को अंजाम देकर आरोपी फरार हो गया …. जिसकी तालश पुलिस कर रही है। आरोपी दबंग और रसूखदार बताया जा रहा है, इस पूरे मामले पर थाना इटियाथोक पुलिस की कार्यवाही संदेश के घेरे में है।
           जिले के थाना इटियाथोक में एक नाबालिग लड़की से रेप का मामला सामने आया जहां गांव के ही एक युवक ने पीड़िता से रेप कर फरार हो गया …. वहीं पीड़ित परिजन सुबह से ही थाने में बैठे रहे लेकिन पुलिस एफआईआर नहीं दर्जकर रही थी और न ही लड़की की मेडिकल जांच कराने की हिम्मत जुटा पा रही थी। मामला मीडिया में आने के बाद पुलिस हरकत में आई और आईपीसी की धारा 376 व पास्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्जकर नाबालिग लड़की के मेडिकल के लिए तैयार हुई। परिजनों का कहना है कि पीड़ित सुबह के समय शौच के लिए बाहर गई थी, नाबालिग लड़की के साथ सुबह गांव के दबंग द्वारा दुष्कर्म किया गया, नाबालिग ने घर पहुँचकर अपने साथ हुई घटना को परिजनों से बताया तो परिजन सुबह ही थाने पहुँचे …. लेकिन पुलिस एफआईआर दर्ज करने में आनाकानी करने लगी और 6 घण्टों तक रेप पीड़िता को थाने में बैठाए रखी। लड़की के पिता का कहना है कि मेरे ऊपर आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज न कराने के लिए राजनीतिक दबाब बनाया जा रहा है। वहीं इस विषय पर पुलिस क्षेत्राधिकारी महावीर सिंह ने पुलिस पर लगे आरोपों को नकारते हुए कहा कि मामला पुलिस के प्रकाश में आने के बाद पीड़िता का बयान दर्जकर धारा 376 व पॉस्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्जकर आरोपी की तलाश की जा रही है।