उत्तर प्रदेश गोंडा स्वास्थ्य

असाध्य बीमारियों पर काबू पाने में समर्थ है होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति:- डा0 चन्द्र गोपाल पाण्डेय

सर्वथा अनुकूल है होम्योपैथी चिकित्सा

गोंडा। होम्योपैथी एक अति वैज्ञानिक चिकित्सा पद्धति है। इस विधा में उपचार सस्ता, सुलभ व दुष्प्रभाव रहित है। यह बातें प्रांतीय होम्योपैथिक चिकित्सा सेवा संघ उत्तर प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष डा0 चन्द्र गोपाल पाण्डेय ने कही। वे राजकीय होम्योपैथिक चिकित्सालय जिला अस्पताल में होम्योपैथी के जनक डा0 हैनीमैन के 264वीं जयन्ती समारोह को सम्बोधित कर रहे थे।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डा0 पाण्डेय ने कहा कि होम्योपैथी की शक्तीकृत औषधियों में उसकी मौजूदगी नैनो पार्टिकिल के रूप में है। उन्होंने होम्योपैथिक विधा को इस देश की सामाजिक-आर्थिक परिवेश के सर्वथा अनुकूल बताया और असाध्य कही जाने वाली बीमारियों पर काबू पाने के लिये होम्योपैथी में शोध की भूमिका को रेखांकित किया। उन्होंने डा0 हैनीमैन को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए स्टाफ का आवाहन किया कि रोगियों की सेवा ही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। वहीं जिला होम्योपैथिक चिकित्सा अधिकारी डा0 अनिल कुमार मिश्र ने डा0 हैनीमैन के संघर्षपूर्ण जीवन गाथा पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर जिले के अन्य चिकित्सालयों में तैनात स्टाफ ने भी डा0 हैनीमैन को अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किये।