उत्तर प्रदेश गोंडा लाइफस्टाइल स्वास्थ्य

तो क्या तीन दिनों के लिए ठप्प हो जायेगी जिला चिकित्सालय की स्वास्थ्य सेवाएं:- देखें क्या कहते हैं प्रमुख अधीक्षक

Written by Ashfaq shah

71  कर्मचारियों की लगा दी गई निर्वाचन में ड्यूटी 

आवश्यक सेवाओं को बहाल रखने के लिए चिकित्सालय प्रसाशन ने निर्वाचन अधिकारी को लिखा पत्र 

गोण्डा। क्या तीन दिन जिला चिकित्सालय बन्द रहेगा, चौकियें नहीं कुछ ऐसा ही मामला सामान्य निर्वाचन 2019 की डयूटी को लेकर जिला चिकित्सालय में उभर कर सामने आया है जहां जिला निर्वाचन कार्यालय के द्वारा जिला चिकित्सालय में कार्यरत 42  चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के साथ ही फार्मासिस्ट, लैब टेक्निशियनों के साथ ही एक्सरे व पैथालोजी टेक्नीशियनों को मिलाकर 29 अन्य कर्मचारियों को चुनावी कार्य हेतु सूचीबद्व किया गया है।

 

शासन के द्वारा चिकित्सालय के कर्मचारियों की निर्वाचन कार्य में लगायी गयी डयूटी से जिला चिकित्सालय में हडकंप मच गया है। चिकित्सालय प्रशासन जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा अस्पताल कर्मियों की लगायी गयी डयूटी को लेकर सामान्य एवं आपात कालीन डयूटी के प्रति चिन्तित नजर आ रहा है। एक साथ इतनी बडी संख्या में अस्पताल कर्मचारियों के निर्वाचन कार्य पर चले जाने से चिकित्सालय का कार्य ठप्प पड जाने की आशंका कर्मचारी दबे जुबान से व्यक्त् कर रहे हैं। वही दूसरी ओर इस सम्बध में जिला चिकित्सालय प्रशासन जिला निर्वाचन कार्यालय से आवश्यक आपात कालीन सेवाओं को बहाल रखने के लिए अनुरोध पत्र भेजने का मन बना चुका है जिसके क्रम में 24 कर्मचारियों को सामान्य निर्वाचन कार्या से मुक्त रखने के लिए प्रमुख अधीक्षक डा0 रतन कुमार ने एक अनुरोध पत्र जिला निर्वाचन अधिकारी को प्रेषित किया है जिसमें कहा गया है कि लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 में इस चिकित्सालय से समस्त पैरामेडिकल स्टाफ ‘‘चीफ फार्मासिस्ट, एक्से टेक्नीशियन, वरिष्ठ लैब टेक्नीश्यिन, लैब टेक्नीशियन की डयुटी निर्वाचन कार्य मे ंलगायी गयी है, जिनके चले जाने से चिकित्सालय का मरीजों से सम्बधिंत कार्य प्रभावी होगा अनुरोध है कि पत्र में भेजे गये कर्मचारियों के नाम के अनुसार कर्मचारियों को चुनावी डयुटी से मुक्त रखने की कृपा करे जिससे चिकित्सालय की आपतकालीन सेवा, एक्सरे, पैथालोजी जैसे महत्वपूर्ण कार्य प्रभावित न हो। जिला निर्वाचन कार्यालय को भेजे गये पत्र में चौबीस कर्मचारियों को इस सेवा से मुक्त रखने का अनुरोध किया गया है जिसमें राजनरायण पाण्डेय, कमरूज्जमा खां, धर्मेन्द्र तिवारी, सुधाकर पाण्डेय, सूर्यनाथ पाण्डेय, राजेश कुमार चौधरी, शिव प्रकाश पाण्डेय, ब्रहमदेव सोनी, मधूसूदन चन्द्र मिश्र, रमनकुमार सिंह, अययूब खां, शिवप्रताप िंसह बिशेन, अरविन्द त्रिपाठी, अमरेश बहादुर िंसह, अजय कुमार त्रिपाठी, जियाउररहमान, अशोक कुमार िंसह, श्याम कुवर, हरिवशंमणि त्रिपाठी, राजेश कुमार मिश्र, रामकिशुन, राजकुमार चौधरी, अनिल कुमार श्रीवास्तव, अनुराग शुक्ल के नाम शामिल हैं।

इस सम्बधं में जिला चिकित्सालय के अनेक कर्मियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि यदि निर्वाचन कार्यालय के द्वारा सूची बद्व किये गये सभी कर्मचारी चुनावी डयूटी पर चले गये तो चिकित्सालय की आवश्यक सेवाओं पर इसका गम्भीर प्रभाव पडेगा, सम्भवता तीन दिनों तक अस्पताल बन्द की स्थिति में ही रहेगा, चिक्तिसालय के उच्च अधिकारियों को इसका सज्ञान लेना चाहिए।

जिला चिकित्सालय के कुल 71 कर्मचारियों को निर्वाचन कार्य के लिए सुची बद्व किया गया है जब इस सम्बध में प्रमुख अधीक्षक डा0 रतन कुमार से बात की गयी तो उनका कहना था कि 2019 की चुनावी डयुटी पर चिकित्सालय के 71 कर्मचारियों को लिस्टेड किया गया है जिनकी संख्या अत्याधिक है। निर्वाचन कार्य भी अति महत्वपूर्ण कार्य है जिसमें कर्मचारी महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगें किन्तु आपातकालीन सेवाओ के साथ ही अन्य चिकित्सीय कार्य भी अति महत्वपूर्ण है जिसके लिए चिकितसालय को कर्मचारियों की जरूरत है हम इस सम्बधं में लिस्टेड किये गये कर्मचारियों में से कुछ कर्मचारियों को चिकित्सीय कार्य को दृष्टिगत रखते हुए जिला निर्वाचन कार्यालय से चौबीस कर्मचारियों को निर्वाचन कार्य से मुक्त रखने के लिए अनुरोध पत्र भेज रहे हैं। यह अत्यतं ही महत्वपूर्ण है। यदि ऐसा न हुआ तो इसका असर आवश्यक सेवाओ ंपर पडना तय है।

About the author

Ashfaq shah

aplikasitogel.xyz hasiltogel.xyz paitogel.xyz
%d bloggers like this: