उत्तर प्रदेश गोंडा राजनीति

योगी ने जमकर साधा विपक्ष पर निशाना, गठबंधन सहित कांग्रेस को भी लिया निशाने पर

गोंडा के डुमरियाडीह पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने भाजपा प्रत्याशी के लिए आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए सरकार की उपलब्धियां गिनाई और जनता को बताया कि देश के कोने कोने में जमकर मोदी लहर चल रही है जनता चाहती है कि एक बार फिर मोदी सरकार। अपने चिर परिचित अंदाज में सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंच से ही विपक्ष को आड़े हाथों लिया …. योगी ने बिजली की उपलब्धता के बहाने गठबंधन की तुलना चोर से की और मंच से ही एक बार फिर धर्म की राजनीति करते हुए सीएम आदित्यनाथ ने कहा कि आज आपको बिजली मिल रही होगी …. सपा – बसपा की सरकार में बिजली मिलती थी, सपा – बसपा के लोग बिजली देंगे कैसे क्योंकि अगर बिजली देते तो फिर प्रदेश के संसाधनों पर डकैती कैसे डालते हैं …. कहते हैं ना कि “चांदनी रात चोरों को अच्छी नहीं लगती” …. सपा बसपा की सरकारों ने प्रदेश की जनता को बिजली नहीं दी और इन के समय में बिजली की भी जाति होती थी, बिजली का भी धर्म होता था, बिजली का भी मजहब होता था, ईद होगी तो बिजली आएगी …. होली होगी तो बिजली नहीं आएगी …. दीपावली होती तो बिजली नहीं आती …. मोहर्रम होगा तो …. तो बिजली की जाति देखकर भी बिजली दी जाती थी।

बाटला हाउस का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि आपने कांग्रेस के उस शाही परिवार के दरबारियों की बातचीत को सुना होगा …. उनके व्यक्तव्यों को सुना होगा जब बटाला हाउस की घटना घटित हुई थी …. उसमे अगर हमारा दिल्ली पुलिस का इंस्पेक्टर शहीद होता है तो उनकी शहादत पर कांग्रेसियों द्वारा प्रश्न खड़ा किया जाता है, बहादुर जवानों की मुठभेड़ में आतंकी मारे जाते हैं तो कांग्रेस के शाही परिवार के दरबारी कहते थे श्रीमती सोनिया गांधी को रात भर नींद नहीं आई वो रात भर रोती रही यानी कि आतंकवादियों के मारे जाने पर इनकी आंखों से आंसू निकलते थे और जब भारत का जवान कहीं शहीद होता है तो उनकी शहादत पर प्रश्न खड़ा करना कांग्रेस की आदत में शुमार हो चुका है।

मुख्यमंत्री योगी ने समाजवादी पार्टी पर भी निशाना साधते हुए कहा की समाजवादी पार्टी की सरकार 2012 में आई थी तो आपने देखा होगा कि पहला निर्णय होता है अयोध्या में राम जन्मभूमि में आतंकी हमला करने वाले आतंकवादियों …. संकट मोचन मंदिर पर आतंकी हमला करने वाले …. सीआरपीएफ कैंप रामपुर में आतंकी हमला करने वाले …. लखनऊ, फैजाबाद और वाराणसी की कचहरियों पर आतंकी हमला करने वाले और गोरखपुर में सीरियल विस्फोट करने वाले आतंकवादियों के मुकदमों को वापस करने का निर्णय पहले ही कैबिनेट में समाजवादी पार्टी की सरकार ने अखिलेश की नेतृत्व में लिया था और न्यायालय को धन्यवाद देंगे की न्यायालय ने समाजवादियों की मंशा को पूरा नहीं होने दिया। एक तरफ आतंकवाद के समर्थन में लोग जो जनता की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं …. देश की सुरक्षा पर सेंध लगवाने का कार्य कर रहे हैं। घोषणा पत्र भी बनाते हैं तो ऐसा लगता ही नहीं की घोषणा पत्र कांग्रेस जैसी किसी राष्ट्रीय दल का हो …. कांग्रेस के घोषणा पत्र को देखकर कहा जा सकता है कि कांग्रेस का हाथ देशद्रोहियों के साथ।