कैरियर/जॉब दिल्ली लाइफस्टाइल व्यवसाय

टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 के पहले महीने में दर्ज किए 1 लाख से अधिक पंजीकरण

दूरसंचार जगत के दिग्गज जियो ने लगातार तीसरे साल टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स के साथ हाथ मिलाए हैं

 सर्वश्रेष्ठ कोडर्स के लिए 1 करोड़ रु से अधिक के पुरस्कारों के साथ इस साल का कार्यक्रम पहले से कहीं बड़ा होगा

नई दिल्लीः दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाईन कोडिंग प्रतियोगिता टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स (techgig code gladiators)  ने 29 मार्च को ओपन राउण्ड में कोड सबमिशन की शुरूआत की। मात्र एक महीने के अंदर प्रतियोगिता के लिए 1,22,662 पंजीकरण मिल चुके हैं।

टीम टेकगिग के साथ अब भारत का सबसे बड़ा 4 जी नेटवर्क जियो जुड़ गया है जो भारत के सर्वश्रेष्ठ कोडर्स की तलाश के लिए टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 में प्रेज़ेन्टिंग पार्टनर की भूमिका निभाएगा।

यह टेकगिग तथा कोड ग्लेडिएटर्स(techgig code gladiators)में जियो के एसोसिएशन के लिए लगातार तीसरा साल है। इसके ग्राण्ड फिनाले का आयोजन पिछले साल के कार्यक्रम स्थल जियो कैम्पस, रिलायन्स कोरपोरेट पार्क, नवी मुंबई में किया जाएगा।

जियो के साथ एसोसिएशन पर बात करते हुए संजय गोयल, बिज़नेस हैड, टाईम्स जॉब्स एवं टेकगिग ने कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि भारत के सर्वश्रेष्ठ कोडिंग प्रतिभा की तलाश के लिए जियो ने एक बार फिर से टेकगिग के साथ हाथ मिलाया है। यह एसोसिएशन इस तथ्य की पुष्टि करता है कि टेकगिग की मूल कंपनी टाईम्स इंटरनेट और जियो दोनों भारत में क्रान्तिकारी बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। पिछले पांच सालों से टेकगिग दुनिया की सर्वश्रेष्ठ कोडिंग प्रतिभा की तलाश के लिए कोड ग्लेडिएटर्स का आयोजन कर रहा है, जिन्होंने आईटी समुदाय के समक्ष अपने कौशल का प्रदर्शन किया है। इस यात्रा की शुरूआत 36,000 कोडर्स को साथ हुई जो 2019 में पहले से कहीं बड़ी होगी।’’

टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स के 2018 संस्करण के लिए 2,28,880 से अधिक पंजीकरण प्राप्त हुए थे। यह संख्या 2017 संस्करण की तुलना में कहीं अधिक थी, जिसने सबसे बड़ी कोडिंग प्रतियोगिता के रूप में गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया था।

‘‘टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2018 का संस्करण अपने आप में शानदार था। जिसके लिए टेक एवं एंटरेप्रेन्यूरशिप समुदाय की ओर से खूब जोश और उत्साह देखा गया, इसके फिनाले का आयोजन रिलायन्स कोरपोरेट पार्क, नवी मुंबई में किया गया था। टेकगिग कोड ग्लेएडिएटर्स में हिस्सा लेना हमेशा से कोडर्स के लिए बेहतरीन अनुभव होता है। हम हमेशा से अपने जियो डेवलपर्स समुदाय में उत्कृष्ट प्रतिभा को शामिल करने की कोशिश करते रहे हैं। पिछले साल टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स में चैलेन्ज को स्पॉन्सर करना जियो के लिए बेहतरीन अनुभव था, इसलिए हमने एक बार फिर से उद्योग जगत की युवा प्रतिभा को प्रोत्साहित करने के लिए इसके साथ जुड़ने का फैसला लिया।’’ अनीश शाह, प्रेज़ीडेन्ट, रिलायन्स इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड ने कहा।

‘‘टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2018 ने हमें देश भर से आए कोडर्स के साथ मिलने का मौका प्रदान किया, जिन्होंने मार्केटिंग की मौजूदा चुनौतियों को हल करने के लिए एक साथ मिलकर काम किया। 2,28,880 से अधिक कोडर्स की मौजूदगी के साथ यह अपने आप में अनूठा हैकाथॉन था, जिसने कोडर्स और निर्णय निर्माताओं को एक दूसरे के साथ जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। संक्षेप में कहा जाए तो यह किसी भी कोडर या डेवलपर के लिए बेहतरीन अनुभव था।’ किरण थॉमस, प्रेज़ीडेन्ट, रिलायन्स इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड ने कहा।

‘‘टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 अपने छठे संस्करण में प्रवेश के साथ पहले से कहीं बड़ा और बेहतर होने जा रहा है। नई थीमों, मुश्किल चुनौतियों और बड़ी पुरस्कार राशि के साथ 2019 संस्करण दुनिया के लिए सबसे बड़ी ऑनलाईन कोडिंग प्रतियोगिता लेकर आएगा।’’ निशित कुमार, हैड ऑफ सेल्स स्टै्रटेजी, टाईम्सजॉब्स एण्ड टेकगिग ने कहा।

कोडर्स इस संस्करण में सबसे आधुनिक टेक्नोलॉजी जैसे ब्लॉकचेन, आर्टीफिशियल इंटेलीजेन्स, रोबोटिक प्रोसेस ऑटोमेशन, फिनटेक, टेस्टिंग, मोबिलिटी, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ई-कॉमर्स, यूआई पाथ और चैटबोट आदि को देखने का अनूठा अनुभव पा सकते हैं।

सर्वश्रेष्ठ कोडर्स के लिए 1 करोड़ रु की बड़ी पुरस्कार राशि के साथ इस साल का कार्यक्रम पहले से कहीं बड़ा होगा। खुली प्रतियोगिता के विजेता को 3 लाख रु के नकद पुरस्कार, एक ट्रॉफी और सेर्टिफिकेट से सम्मानित किया जाएगा। वहीं थीम के प्रत्येक विजेता को 1.75 लाख रु का नकद पुरस्कार मिलेगा।

टेकगिग कोर्ड ग्लेडिएटर्स 2019 में 52 से अधिक भाषाओं में शीर्ष पायदान के प्रोग्रामर कोड होंगे। प्रतिस्पर्धी 52 प्रमुख प्रोग्रामिंग भाषाओं में से किसी में भी कोड कर सकते हैं जैसे सी, सी प्लस प्लस, सी हैशटैग, जावा, पीएचपी, वीबी नेट, पाइथन, पर्ल, रूबी, जेएस, ऑब्जेक्टिव सी, गों, स्काला, एफ हैशटैग, हसकेल, लुआ, डी, क्लोज़र, ग्रूवी, टीसीएल, पास्कल, ओकामल, अरलैंग, स्मॉल टॉक, कोबोल, रैकेट, बैश, जावा 8, पाइथन 3, जीएनयू ऑक्टेव, रस्ट, कॉमन एलआईएसपी, आर और नोड जेएस।

टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 के लिए पंजीकरण निःशुल्क हैं और https://www.techgig.com/codegladiators से किए जा सकते हैं।