दिल्ली व्यवसाय

टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 में दोहराया गया इतिहासः पूर्व चैम्पियन समीर गुलाटी ने फिर से जीती कोडिंग प्रतियोगिता

 टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 के लिए 2018 की तुलना में 21 फीसदी अधिक पंजीकरण मिले

इस संस्करण में नए युग की टेक्नोलॉजी जैसे चैटबोट, रोबोटिक प्रोसेस ऑटोमेशन, फिनटेक, सॉफ्टवेयर टेस्टिंग और न्यू कॉमर्स पर 10 हैकाथॉन थीम राउण्ड आयोजित किए गए

नई दिल्ली ! इतिहास टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 को याद रखेगा क्योंकि पूर्व चैम्पियन और डिफेन्डिंग चैम्पियन दुनिया के ‘बेस्ट कोडर’ टाइटल की दावेदारी के लिए एक दूसरे के सामने आ गए। 2017 के विजेता समीर गुलाटी और 2018 के विजेता विनीत पालीवाल तथा 2.6 लाख से अधिक कोडर्स ने 2019 का खिताब जीतने के लिए 87 दिनों तक कड़ा मुकाबला किया, जिसे आखिरकार समीर गुलाटी ने जीत लिया।

टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 का समापन नवी मुंबई के रिलायन्स कोरपोरेट पार्क में ग्राण्ड फिनाले के साथ हुआ, जिसमें समीर गुलाटी ने दुनिया के ‘बेस्ट कोडर’ का खिताब अपने नाम कर लिया। 6 घण्टे के नॉन-स्टॉप कड़े मुकाबले के बाद इस साल के टॉप कोडर और कोड ग्लेडिएटर 2019 के विजेता की घोषणा भारतीय आईटी एवं टेक्नोलॉजी उद्योग के दिग्गजों द्वारा की गई। प्रतियोगिता में रिकॉर्ड 2,62,906 प्रतियोगियों ने हिस्सा लिया था, जिसमें से सिर्फ 15,382 प्रतियोगी ही सेमी-फाईनल में पहुंचे। इसके बाद मुकाबला और भी कड़ा हो गया, मात्र 0.2 फीसदी प्रतियोगी ही ग्राण्ड फिनाले तक पहुंच पाए- इसके साथ यह दुनिया की सबसे मुश्किल कोडिंग प्रतियोगिताओं में से एक बन गई।

टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 के लिए पंजीकरण संख्या अब अपने छठे साल में है जो 21 फीसदी सालाना की दर से बढ़ रही है। इस संस्करण के लिए 2.6 लाख से अधिक पंजीकरण मिले जो 2014 में इसकी शुरूआत के बाद से सबसे बड़ा आंकड़ा है।

दुनिया के सबसे बड़े कोडिंग एरीना- टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स- के दौरान 10 नए युग की तकनीकों पर हैकाथॉन थीम राउण्ड आयोजित किए गए। इनमें आर्टीफिशियल इंटेलीजेन्स, ब्लॉकचेन, चैटबोट, रोबोटिक्स प्रोसेस ऑटोमेशन, फिनटेक, सॉफ्टवेयर टेस्टिंग, लोकेशन सर्विसेज़, एमज़ॉन, एलेक्सा स्किल्स, इंटरनेट ऑफ थिंग्स और न्यू कॉमर्स शामिल थे।

मुख्य कोडिंग राउण्ड में समीर गुलाटी ने सभी बाधाओं को पार कर लिया और उन्हें टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 के संस्करण का चैम्पियन घोषित किया गया। समीर गुलाटी को रु 3,00,000 के चैक, ट्रॉफी और सेर्टिफिकेट से सम्मानित किया गया। थीम राउण्ड्स के विजेताओं को भी समारोह के दौरान सम्मानित किया गया। थीम राउण्ड के की हर विजेता टीम को रु 1,75,000 के पुरस्कार से, पहली रनर टीम को रु 1,25,000 के पुरस्कार से तथा दूसरी रनर-अप टीम को रु 75,000 की पुरस्कार राशि से सम्मानित किया गया।
कोड ग्लेडिएटर्स के विजेताओं को बधाई देते हुए संजय गोयल, बिज़नेस हैड, टाईम्स जॉब और टेकगिग ने कहा, ‘‘उभरती टेक्नोलॉजी में गुणवत्तापूर्ण प्रतिभा को खोजना आज की टेकनोलॉजी कंपनियों के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स का यह मंच सबसे प्रतिभाशाली कोडर्स को अग्रणी टेक्नोलॉजी कंपनियों के समक्ष अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने का मौका देता है। मुझे खुशी है कि टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स आज आईटी उद्योग का सबसे प्रतिष्ठित प्लेटफॉर्म बन चुका है। मैं सभी विजेताओं और प्रतिभागियों को बधाई देता हूँ जो 87 दिनों की कोडिंग प्रतियोगिता में कड़े मुकाबले के बाद फिनाले राउण्ड तक पहुंचे हैं।’’

ग्राण्ड फिनाले पर बात करते हुए आशीष शाह, प्रेज़ीडेन्ट, रिलायन्स इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड ने कहा, ‘‘टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स के साथ हमारी यात्रा बेहद रोचक रही है। ग्राण्ड फिनाले के दौरान प्रतिभागियों की उर्जा और उत्साह देखने योग्य था, मुझे देश भर से सर्वश्रेष्ठ कोडिंग प्रतिभाओं से मिलने का मौका मिला। मैं समीर को बधाई देता हूँ जिन्होंने टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स 2019 संस्करण में जीत हासिल की है। टेकगिग कोड ग्लेडिएटर्स के साथ हमारी साझेदारी बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह ब्राण्ड जियो को टेक्नोलॉजी समुदाय एक अनूठे तरीके से स्थापित करत है।’’

किरण थॉमस, प्रेज़ीडेन्ट, रिलायन्स इंडस्ट्रीज़ ने कहा, ‘‘कोड ग्लेडिएटर्स 2019 की सम्पूर्ण यात्रा बेहद रोचक रही है। इस साल 2.6 लाख कोडर्स ने कार्यक्रम के लिए पंजीकरण किया और इनमें से सिर्फ 545 ही फिनाले तक पहुंच पाए। इन प्रतिभागियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं, क्योंकि कोड ग्लेडिएटर्स ने ग्लोबल कोडिंग मानचित्र पर भारत की स्थिति को मजबूत बनाया है। यह कार्यक्रम सिर्फ कोडर्स के बारे में ही नहीं है बल्कि हर उस टेक्नोलॉजी पसंद व्यक्ति के बारे में है जो अपने कारोबार की समस्याओं को हल करने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना चाहता है।’’

विजेताओं की सूचीः

चैम्पियनः समीर गुलाटी
पहला रनर-अप- माधव सैनानी
दूसरा रनर-अप- प्रांजल जैन
तीसरा रनर-अप- जतिन यादव
चौथा रनर-अप- विनीत पालीवाल
बेस्ट फिनाले कोडर- वैष्णवी
थीम विजेताः
एलेक्सा
विजेताः टीम बैड बॉयज़
लीडर का नामः राहुल यादव
सदस्यः दिव्यांशु वर्मा
पहला रनर-अपः विभाष कुमार
दूसरा रनर-अपः अविरल अग्रवाल
आर्टीफिशियल इंटेलीजेन्स
विजेताः कुशजवीर सिंह
पहला रनर-अपः पाराबेलम दूसरा रनर-अपः ब्ल्ठव्त्ळै
ब्लॉकचेन विजेताः
टीम ब्लॉटिक्स
लीडर का नामः दीपक बंसल
सदस्यः दीपक कुमर, अनुज तलवार
पहला रनर-अपः गेम ऑफ ब्लॉक्स दूसरा रनर-अपः ब्ळऋज्म्।डऋटल्प्म्क्
चैटबोट
विजेताः टीम गीक स्क्वैड
लीडर का नामः पौरब करचौधरी
सदस्यः शुभम गुप्ता, पूर्णिमा कृष्णमणि

पुरस्कार राशि के अलावा कोड ग्लेडिएटर्स आने वाले प्रतिभागियों को कार्यक्रम के दौरान नेटवर्किंग का अवसर भी मिला। कोड ग्लेडिएटर्स की लोकप्रियता की पुष्टि इस बात से हो जाती है कि प्रतियोगिता हर उम्र, अनुभव, भोगौलिक क्षेत्र, अकादमिक योग्यता एवं लिंग के व्यक्ति को अवसर प्रदान करती है।

कार्यक्रम में देश भर से कोडर्स ने हिस्सा लिया, भारत की सिलिकॉन वैली बैंगलुरू से सबसे ज़्यादा पंजीकरण आए, इसके बाद पुणे, चेन्नई और मुंबई से भी बड़ी संख्या में पंजीकरण दर्ज किए गए।

टेकगिग के बारे में

टेकगिग टेक्नोलॉजी से जुड़ा एक प्लेटफॉर्म है जो खासतौर पर आईटी पेशेवरों को अपने विचारों, तथ्यों, जानकारियों को साझा करने, अपने काम को दर्शाने तथा अपने विचारों को आईटी उद्योग के समक्ष रखने का मौका देता है। यह मंच इन प्रतिभागियों को टेकगिग की मुख्यधारा के साथ जोड़ने में मदद करता है।