उत्तर प्रदेश गोंडा शिक्षा

संस्कृति आधारित संस्कार युक्त शिक्षा देते हैं विद्या भारती के विद्यालय: राजेन्द्र बाबू

गोण्डा। स्थानीय सरस्वती शिशु मंदिर मालवीय नगर के सरस्वती सभागार में दो दिवसीय संकुल स्तरीय आचार्य विकास वर्ग का प्रदेश निरीक्षक राजेंद्र बाबू ने दीप प्रज्वलित कर उद्घाटन किया।
मुख्य अतिथि के रूप में जिला विद्यालय निरीक्षक अनूप कुमार उपस्थित रहे
कार्यक्रम की अध्यक्षता अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सदस्य डॉ. ओपी मिश्रा जी ने किया। विद्यालय के प्रबंधक अरुण कुमार शुक्ल प्रधानाचार्य काली प्रसाद मिश्र, गार्गीदीन बाजपयी, श्रीमती पुष्पा मिश्र,प्रेमनाथ सिंह,अनिल पाण्डेय, सहित सैकड़ों की संख्या में आचार्य एवं आचार्य बहने उपस्थित रही।
इस दौरान उपस्थित आचार्य बंधुओं का मार्गदर्शन करते हुए प्रदेश निरीक्षक भारतीय शिक्षा समिति उत्तर प्रदेश राजेंद्र बाबू ने कहा कि विद्या भारती ने एक विशेष लक्ष्य को लेकर राष्ट्र के सुदूर ग्रामीण अंचलों सहित शहरों में संस्कार युक्त वातावरण में भारतीय संस्कृत आधारित शिक्षा देने के लिए विद्यालय संचालित किए जा रहे हैं। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि आचार्य छात्र/छात्राओं के अर्वाचीन एवं सर्वांगीण विकास के लिए सदैव अपने आप को अपडेट करते हुए नित्य प्रतिदिन नवीन प्रयोगों को अपने शिक्षण का हिस्सा बनाएं।
अपना विचार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला विद्यालय निरीक्षक ने कहा कि आचार्यों की टीम बनाकर समस्याओं का निदान और बच्चों को किन प्रकार की कठिनाइयां आ रही हैं उनका निराकरण करते हुए विषय वस्तु की सम्यक जानकारी देनी चाहिए, विद्यालय में शैक्षिक वातावरण बनाते हुए अपनी संस्कृति का प्रचार प्रसार कर बच्चों का विकास करें।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सदस्य डॉ ओपी मिश्र ने कहां कि हम अखिल ब्रह्मांड के गतिशील जीव है हमें बच्चों के समक्ष अपने शिक्षण एवं प्रभाव से विशिष्ट आदर्श प्रस्तुत करना होगा।
इस दो दिवसीय वर्ग में सरस्वती शिशु मंदिर नैयर कॉलोनी, सरस्वती शिशु मंदिर बड़गांव, सरस्वती विद्या मंदिर बड़गांव, सरस्वती शिशु मंदिर कर्नलगंज, सरस्वती शिशु मंदिर मनकापुर एवं सरस्वती विद्या मन्दिर इण्टर कालेज मालवीय नगर मेे अध्यापन कार्य कर रहे आचार्य एवं आचार्य बहने उपस्थित रही।
यह जानकारी प्रांत सोशल मीडिया प्रमुख विद्या भारती जीतेंद्र पांडेय हलचल ने जारी एक विज्ञप्ति में दी।