कैरियर/जॉब राष्ट्रीय व्यवसाय

जल्द ही बैंकों का हो सकता है निजीकरण, insurence कंपनियां भी हैं लिस्ट में शामिल

नई दिल्ली ! सरकार, सरकारी कंपनियों और पब्लिक सेक्टर के लिये कुछ नई योजनाएं लेकर आ रही है। सरकार सरकारी इंश्योरेंस कंपनियों और बैंकों के निजीकरण की तैयारी भी कर रही है। इसपर सरकार बहुत ही वृहद स्तर पर काम करने को लेकर प्रतिबद्ध है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार LIC और एक नॉन लाइफ इंश्योरेंस कंपनी को छोड़कर बाकी सभी इंश्योरेंस कंपनियों में सरकार अपनी पूरी हिस्सेदारी किस्तों में बेच सकती है। बता दें कि अभी कुल 8 सरकारी इंश्योरेंस कंपनियां हैं। LIC के अलावा 6 जनरल इंश्योरेंस और एक National Reinsurer कंपनी है।

दूसरी तरफ बैंको के भी प्राइवेटाइजेशन का भी प्लान है। इस पर PMO, वित्त मंत्रालय और नीति आयोग के बीच सहमति बनी है, साथ ही कैबिनेट ड्रॉफ्ट नोट भी तैयार हो चुका है। इस प्रस्ताव के मुताबिक LIC और एक Non Life Insurace कंपनी सरकार अपने पास रखेगी। बारी सभी कंपनियों को बेच दिया जाएगा।
बैंकों का निजीकरण किया जा सकता है।

पहले चरण में बैंक ऑफ महाराष्ट्र और इंडियन ओवरसीज बैंक में सरकारी हिस्सेदारी बेची जा सकती है। 5 पहले चरण में 5 सरकारी बैंकों में हिस्सा बिक सकता है। सबसे पहले Bank of Maharashtra, IOB में सरकार का हिस्सा बिक सकता है। Bank of India व Central Bank of India और पंजाब ऐंड सिन्ध बैंक का निजीकरण संभव है। यहाँ तक कि UCO Bank में भी सरकारी हिस्सेदारी बेची जा सकती है।

बता दें कि मौजूदा समय में देश में सार्वजनिक क्षेत्र के 12 बैंक है। इसको लेकर बैंकों ने तैयारियां शुरु कर दी है सरकार का मानना है कि इससे प्राइवेट सेक्टर्स को काफी बढ़ावा मिलेगा।

About the author

गरिमा भारद्वाज

वरिष्ठ उप संपादक

aplikasitogel.xyz hasiltogel.xyz paitogel.xyz
%d bloggers like this: